आयुर्वेद में नीम के इन चमत्कारी फायदों को नहीं जानते होंगे आप!

नीम में छुपे गुणों का फायदा उठाने के लिए इसके बारे में समझना जरूरी है। यह जहां होता है, अपने आसपास के वातावरण को शुद्ध और हमारी सेहत के अनुकूल बनाए रखता है। इसकी पत्तियां, टहनियां हमारी शरीर के अनेक बीमारियों को दूर करने में दवा का काम करती हैं। भारतीय वेदों में नीम का नाम सर्व रोग निवारणी रखा गया है, नीम दो किस्म का होता है, मीठा नीम और कड़वा नीम। दोनों में ही औषधीय गुण पाए जाते हैं लेकिन कड़वे नीम के फायदे बहुत है और इसका इस्तेमाल औषधि निर्माण में ज्यादा होता है। आधुनिक शोधों व अनुसंधानों ने साबित कर दिया है कि नीम के औषधीय उपयोग और गुण हैं, जिनका कोई जवाब नहीं है।

-नीम का तेल आपके स्कैल्प पर हो रहे इंफेक्शन को खत्म कर देता है, जिससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है। नीम के तेल का नियमित तौर पर प्रयोग करने से बाल जल्दी बढ़ते हैं।

-त्वचा से संबंधित समस्या है तो पानी में दो बूंद नीम का पानी मिला कर नहाएं। नीम का पानी तैयार करने के लिए आधा लीटर पानी में 50 ग्राम पत्तों को खूब उबालें और फिर छान कर एक बोतल में रख लें।
-मच्छरों से बचने के लिए नीम के पत्तों का धुआं करना या नीम का तेल लगाना फायदेमंद होता है।
-भूख न लगती हो या खाने की इच्छा न होती हो तो नीम की कोमल पत्तियों को घी में भून कर खाएं। भूख जग जाएगी और बदहजमी दूर होगी।

-किसी भी तरह का घाव भरने के लिए नीम के तेल में थोड़ा-सा कपूर मिला कर लगाने से लाभ होता है।
-नीम के रस में सेंधा नमक मिला कर मंजन करने या इसकी कोंपलों को पानी में उबाल कर कुल्ला करने से दांतों की सभी बीमारियां दूर होती हैं।